Skip to content

Kuch Rang Pyar Ke Aise Bhi Song Lyrics

Kuch Rang Pyar Ke Aise Bhi Song Lyrics

By | Published

Kuch Rang Pyar Ke Aise Bhi Song Lyrics song sung by Subhajit Mukherjee, Arpita Mukherjee free in Hindi English

SongKuch Rang Pyar Ke Aise Bhi
SingerSubhajit Mukherjee, Arpita Mukherjee
LyricistMamta Patnai
LabelSET India

English Lyrics

Yeh Lamhein Hazar Se Hote Hain,
Rang Pyaar Ky
Laakhon Phool Bahaar Ky,
Hoty Hai Rang Pyaar Ky

Dekhe Hai Phool Jo Khil Ky Kabhi Na Khily,
Dekhe Hai Dil Joo Mil Ky Kabhi Naa Miley
Kuch Rang Pyar Ke Hai Aise Bhi,
Kuch Rang Pyaar Ky Aise Bhi

Chulhe Py Phulke Sa Phulhy,
Yaadein Jaisy Hawa Main Jhoole
Raat Ko Lori Ban,
Chupke Sy Maathy Ko Chule

Taanky Hue Shirt Ky Button Saa,
Godh Rakh Soye Bachpan Saa
Haath Ki Laali Saa,
Kabhi Laagy Dhaga Resham Saa

Pyaar Main Lipty Kitny Rang Mile,
Dekhe Kabhi Woh Rang Joo
Kabhi Na Mily,
Kuch Rang Pyaar Ke Hai Aise Bhi

Kuch Rang Pyaar Ke Aise Bhi
Kuch Rang Pyaar Ke Aise Bhi.

Hindi Lyrics

बड़े से दिन है मेरी बदली सी रातें, बदली सी रातें,
काई दिनो से मेरी महकी है सांसे महकी है सांसे
पहली दाफा है की, मुझे तू झलका है,
पहली दाफा है की, मुझे तू छलका है

मेरे रंगो में कुछ धंग है तेरे जैसे भी,
कुछ रंग प्यार के ऐसे भी,
कुछ रंग प्यार के ऐसे भी,
कुछ रंग प्यार के ऐसे भी

कुछ रंग प्यार के ऐसे भी।,
अनचुए थे सपने मेरे तूने छू लिए
चुपके, चुपके दिल में आया तो जान दो लिए,
तेरी हो गई में तुझ को पता भी तो हो

मेरे प्यार में तेरी रजा भी तो हो,
तेरी हो गई में तुझ को पता भी तो हो
मेरे प्यार में तेरी रजा भी तो हो,
पहली दाफा है, की मुझ में तू झलक है

पहली दाफा है की, मुझ में तू छलका है,
मेरे रंगो में कुछ धंग है तेरे जैसे भी।
कुछ रंग प्यार के ऐसे भी,
कुछ रंग प्यार के ऐसे भी

कुछ रंग प्यार के ऐसे भी,
कुछ रंग प्यार के ऐसे भी
ये लम्हे, हज़ारों, प्यार के रंग/पहलू हैं।,
लाखों फूल, बसंत के, प्रेम के रंग हैं।

मैंने ऐसे फूल देखे हैं जो एक बार खिले हैं लेकिन फिर कभी नहीं,
मैंने ऐसे दिल देखे हैं जो एक बार मिले हैं फिर कभी नहीं मिले
प्यार के कुछ रंग ऐसे होते हैं,
जैसे चूल्हे पर रोटी फूलती है

उन यादों की तरह जो हवा में झूल रही हैं,
एक लोरी की तरह जो रात में चुपचाप मेरे माथे को सहलाती है।
सिले शर्ट के बटन की तरह।,
बचपन की तरह मेरी गोद में आराम कर रहा है

जैसे लाल रंग/मेंहदी (दुल्हन के) हाथों पर लगाया जाता है
और कभी कभी (प्यार है) एक महीन धागे की तरह

Tag:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *