1. Home
  2. >
  3. Islamic Lyrics
  4. >
  5. Mustafa Aapke Jaisa Koi

Mustafa Aapke Jaisa Koi Aaya Hi Nahi Lyrics

Read Download Pdf Islamic Mustafa Aapke Jaisa Koi Aaya Hi Nahi naat Lyrics English Hindi on Android & iOS Mobie Phones free. Read more islamic lyrics free.

TitleMustafa Aapke Jaisa Koi Aaya Hi Nahi
SingerHafiz Tahir Qadri
LyricistHafiz Tahir Qadri

Read In:

English Lyrics

Mustafa Aapke Jaisa Koi Aaya Hi Nahi
Ata Bhi Kaise Jab Allah Ne Banaaya Hi Nahi

Koi Saani Na Hai Rab Ka Na Mere Aaaqa Ka
Ek Ka Jisam Nahi Ek Ka Saaya Hi Nahi

Mustafa Aapke Jaisa Koi Aaya Hi Nahi
Aata Bhi Kaisey Jab Allah Ne Banaaya Hi Nahi

Zulf Wallail Hai Rukhh Wadduha Mazaaj Aankhen
Is Tarah Rab Ne Kisi Ko Bhi Sajaya Hi Nahi

Mustafa Ap Ke Jaisa Koi Aaya Hi Nahi
Aata Bhi Kaise Jab Allah Ne Banaaya Hi Nahi

Aap Nay Jab Se Nawaza Hai Ya Rasool Allah
Me Ne Daaman Kisi Chaukhat Pe Bichaya Hi Nahi

Mustafa Aapke Jaisa Koi Aaya Hi Nahi
Aata Bhi Kaisay Jab Allah Ne Banaaya Hi Nahi

Jisne Sarkaar Ke Chehray Ki Ziyaarat Ki Hai
Uski Nazroun Me Koi Aur Samaya Hi Nahi

Mustafa Aapke Jaisa Koi Aaya Hi Nahi
Aata Bhi Kaisay Jab Allah Ne Banaaya Hi Nahi

Laut Kar Aa Gaya Makka Se Madinay Na Gaya
Kaise Jaata Tujhe Aaqa Ne Bulaaya Hi Nahi

Mustafa Ap Ke Jaisa Koi Aaya Hi Nahi
Aata Bhi Kaise Jab Allah Ne Banaaya Hi Nahi

Jab Se Darwazay Pay Likha Maine Aala Hazrat
Koi Gustaakhe Nabi Ghar Mere Aaya Hi Nahi

Jab Talak Pusht Pe Shabbir Rahe Aye Faizi
Sar Ko Sajde Sey Payambar Ne Uthaya Hi Nahi

Mustafa Aapke Jaisa Koi Aaya Hi Nahi
Aata Bhi Kaisay Jab Allah Ne Banaaya Hi Nahi

Hindi Lyrics

मुस्तफा आपके जैसा कोई आया ही नहीं
आटा भी कैसे जब अल्लाह ने बनाया ही नहीं

कोई सानी ना है रब का ना मेरे आका का
एक का जीसम नहीं एक का साया ही नहीं

मुस्तफा आपके जैसा कोई आया ही नहीं
आटा भी कैसे जब अल्लाह ने बनाया ही नहीं

जुल्फ वालेल है रूख वद्दू मजाज आंखें
इस ताराह रब ने किसी को भी सजया ही नहीं

मुस्तफा आप के जैसा कोई आया ही नहीं
आटा भी कैसे जब अल्लाह ने बनाया ही नहीं

आप ने जब से नवाजा है या रसूल अल्लाह
में ने दामन किसी चौखत पे बिचाया ही नहीं

मुस्तफा आपके जैसा कोई आया ही नहीं
आता भी कैसा जब अल्लाह ने बनाया ही नहीं

जिस सरकार के चेहरे की जियारत की है
उसकी नज़रों में कोई और समय ही नहीं

मुस्तफा आपके जैसा कोई आया ही नहीं
आता भी कैसा जब अल्लाह ने बनाया ही नहीं

लौट कर आ गया मक्का से मदीने ना गया
कैसे जाता तुझे आका ने बुलाया ही नहीं

मुस्तफा आप के जैसा कोई आया ही नहीं
आटा भी कैसे जब अल्लाह ने बनाया ही नहीं

जब से दरवाजा पे लिखा मैंने आला हजरत
कोई गुस्ताखे नबी घर मेरे आया ही नहीं

जब तलाक पुश पे शब्बीर रहे ऐ फैज़िक
सर को सजदे से पयंबर ने उथया ही नहीं

मुस्तफा आपके जैसा कोई आया ही नहीं
आता भी कैसा जब अल्लाह ने बनाया ही नहीं

Rate Lyrics
5/5
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on telegram
Telegram
Share on whatsapp
WhatsApp

Related Songs Lyrics

Leave a Comment

Your email address will not be published.