Skip to content

Tumhe Dillagi Bhool Jani Padegi Lyrics

Tumhe Dillagi Bhool Jani Padegi Lyrics

By | Published

Tumhe Dillagi Bhool Jani Padegi Lyrics Song Sung By Rahat Fateh Ali Khan Free In Hindi English

SongTumhe Dillagi Bhool Jani Padegi
SingerRahat Fateh Ali Khan
LyricistManoj Muntashir
LabelT-Series

English Lyrics

Tumhein Dillagi Bhool Jani Pare Gi,
Tumhein Dillagi Bhool Jani Pare Gi
Mohabbat Ki Rahoon Mein Aa Kar Tu Dekhoo,
Tumhein Dillagi Bhool Jaani Paare Gi

Mohabbat Ki Rahoon Mein Aa Kar Tu Dekhoo,
Tarapne Py Mere Naa Phir Tum Hansoo Gy
Tarapne Py Mere Naa Phir Tum Hansoo Gy,
Kabhi Dil Kisi Sy Lagaa Kar Tu Dekhoo

Honton Ke Paas Aye Haansi, Kya Majal Hai,
Dil Ka Mamla Hai Koi Dillagi Nahi
Zakhm Pe Zaakhm Khaa Ke Ji,
Apne Lahoo Ke Ghoont Pi

Aah Naa Kar Laboon Ko Si,
Ishq Hai Dillagi Nahi
Dil Lagaa Kar Pataa Chaaley Ga Tumhein,
Aashiqui Dillaagi Naahin Hoti

Kuch Khel Naahin Hai Ishq Ki Laag,
Paani Naa Saamajh Ye Aag Hai Aag
Khoon Rulaye Gi Ye Laagi Dil Ki,
Khel Samjhoo Naa Dillagi Dil Ki

Yeh Ishq Naahin Aaasaan,
Bas Itnaa Saamajh Leejay
Ik Aag Kaa Daryaa Hai,
Aur Doob Ky Jaanaa Hai

Tumhein Dillagi Bhool Jani Pare Gi,
Muhabbat Ki Rahon Mein Aa Kar Tu Dekhoo
Tarapne Py Mere Naa Phir Tum Haanso Ge,
Tarapne Py Mere Naa Phir Tum Haanso Ge

Kabhi Dil Kissi Se Laga Kar To Dekho,
Wafaaon Ki Humse Tawaqo Nahi Hai
Wafaaon Ki Humse Tawaqo Nahi Hai,
Zamane Ko Apnaa Banaa Kar Tu Dekha

Humein Bhi Tum Apna Banaa Kar To Dekho,
Khuda Ke Liyaa Chor Do Ab Yeh Pardaa…
Rukh Se Naqaab Uthaa, Ke Bari Der Ho Gayi,
Maahol Ko Tilawat-E-Quran Kiye Hoye

Khuda Ke Liye Chor Do Ab Yeh Parda,
Hum Naa Samjhe Teri Naazron Ka Taaqaza Kya Hai
Kabhi Pardaa Kabhi Jalwaa Yeh Taamasha Kya Hai,
Khuda Ke Liye Choor Do Ab Yeh Pardaa…

Jan-E-Jan Hum Sy Uljhan Nahi Dekhi Jaati,
Khudaa Ke Liye Choor Do Ab Yeh Pardaa…
Khuda Ke Liya Choor Do Aab Yeh Pardaa,
Keh Hain Aaj Hum Tum Naahin Ghair Koi

Shab-E-Wasl Bhi Hai Hijaab Is Kaadar Kyon,
Zara Rukh Se Aanchal Utha Kar To Dekho
Jafaaein Buhat Kien Bohat Zulm Dhaye,
Kabhi Ik Nigah-E-Karam Is Taraf Bhi

Humeshaa Huye Dekhh Kar Mujh Ko Baarham,
Kissi Din Zaraa Muskuraa Kar Tu Dekhoo
Jo Ulfat Mein Har Ek Sitam Hai Gawaraa,
Yeh Sab Kuch Hai Paas-E-Wafa Tum Se Warnaa

Satate Ho Din Raat Jis Taarha MujhKo,
Kisi Gair Ko Youn Sata Kar To Dekho
Agarche Kissi Baat Par Woh Khafa Hain,
Tu Acha Yehi Hai Tum Apni Si Kar Lo

Woh Maane Na Mann Mein Yeh Marzi Hai Unki,
Magar Un Koo Pur-Nam Manaa Kar Tu Dekho
Tumhein Dillagi Bhool Jani Pare Gi,
Muhabbat Ki Raahon Mein Aa Kar Tu Dekho

Hindi Lyrics

तुम्हें दिल्लगी भूल जानी पारे,
तुम्हें दिल्लगी भूल जानी पारे
मोहब्बत की रहूं में आ कर तू देखो,
तुम्हें दिल्लगी भूल जानी पारे जी

मोहब्बत की रहूं में आ कर तू देखो,
तर्पणे प्य मेरे ना फिर तुम हंसो गय
तर्पणे प्य मेरे ना फिर तुम हंसू गय,
कभी दिल किसी से लगा कर तू देखो

हौंटों के पास आए हंसी, क्या मजाल है,
दिल का मामला है कोई दिल्लगी नहीं
ज़ख्म पे ज़ख़्म खा के जी,
अपने लहू के घोंट पाई

आह ना कर लबून को सी,
इश्क है दिल्लगी नहीं
दिल लगा कर पता चले गा तुम,
आशिकी दिल्लगी नहीं होती

कुछ खेल नहीं है इश्क की लाग,
पानी ना समाज ये आग है आग
खून रुलाये जी ये लागी दिल की,
खेल समझो ना दिल्लगी दिल की

ये इश्क नहीं आसान,
बस इतना समाज लीजय
इक आग का दरिया है,
और डूब क्या जाना है

तुम्हें दिल्लगी भूल जानी पारे,
मुहब्बत की राहों में आ कर तू देखो
तर्पणे प्य मेरे ना फिर तुम हंसो गे,
तर्पणे प्य मेरे ना फिर तुम हंसो गे

कभी दिल किसी से लगा कर तो देखो,
वफ़ाओं की हमसे तवाक़ू नहीं है
वफ़ाओं की हमसे तवाक़ू नहीं है,
जमाने को अपना बना कर तू देखा

हमें भी तुम अपना बना कर तो देखो,
खुदा के लिया चोर दो अब ये परदा…
रुख से नकाब उठा, के बारी देर हो गई,
माहोल को तिलावत-ए-कुरान किए होए

खुदा के लिए चोर दो अब ये पर्दा,
हम ना समझे तेरी नजरों का तकजा क्या है
कभी परदा कभी जलवा ये तमाशा क्या है,
खुदा के लिए चूर दो अब ये परदा…

जन-ए-जन हम सी उल्झन नहीं देखी जाती,
खुदा के लिए चूर दो अब ये परदा…
खुदा के लिया चूर दो अब ये परदा,
कह हैं आज हम तुम नहीं घर कोई

शब-ए-वस्ल भी है हिजाब इस कादर क्यों,
जरा रुख से आंचल उठा कर तो देखो
जाफाइन बुहत किएन बोहत जुल्म धाये,
कभी इक निगाह-ए-करम इस तरफ भी

हमेंशा हुए देख कर मुझ को बरहम,
किसी दिन जरा मुस्कुरा कर तू देखो
जो उल्फत में हर एक सितम है गवारा,
ये सब कुछ है पास-ए-वफा तुम से वारना

साते हो दिन रात जिस तरह मुझको,
किसी गैर को यूं सता कर तो देखो
अगरचे किसी बात पर वो खफा हैं,
तू अच्छा यही है तुम अपनी सी कर लो

वो माने ना मन में ये मरज़ी है उनकी,
मगर उन कू पुर-नाम मना कर तू देखो
तुम्हें दिल्लगी भूल जानी पारे,
मुहब्बत की राहों में आ कर तू देखो

Tag:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *